ये नाम नहीं, पहचान है - पार्ट 6 (धोखाधड़ी)

अभी कुछ दिनों पहले की बात है जब तांत्रिक चंद्रास्वामी अचानक इस दुनिया से चलते बने। बहुत लंबे समय तक गुमनाम ज़िन्दगी जीने के बाद एक रोज़ मौत उन्हें अपने साथ ले गयी। 90 के दशक में ऐसा कोई दिन नहीं जाता था जब टीवी या अख़बार में उस शख़्स का ज़िक्र न उठा हो। उनके साथ जुड़े तमाम विवादों को किसी छलनी से छाना जाए तो एक विवाद सबसे मोटे तौर पर नज़र आता है और वो है लक्खूभाई पाठक घोटाला, जिसे उस वक़्त मीडिया में लक्खूभाई पाठक धोखाधड़ी मामला भी कहा गया।
ख़ैर ये कोई राजनितिक पोस्ट नहीं है और न ही मैं किसी विवाद पर बात कर रहा हूँ बल्कि इसी लक्खूभाई केस में छुपी है एक और दिलचस्प नाम की कहानी जो बचपन में हमारे लिए रोज़ाना के मस्ती-मज़ाक की वजह बना। मेरे क्वार्टर के बिल्कुल पीछे वाली ब्लॉक में एक लक्खू अंकल रहा करते थें। छोटे कद के, मोटे से मगर हरदम मुस्कान लिए हुए। बड़े ही अलहदा किस्म के थे लक्खू अंकल.. मस्तमौला तबीयत के मालिक, खूब खाने-पीने और हमेशा मज़ाक-मसखरी करते रहने वाले। मोहल्ले-पड़ोस में कहीं कोई उत्सव हो या सड़क से गुज़रती बरात या कोई जुलूस.. अंकल फौरन वहां पहुंचकर नाचने लगते और ऐसे मस्त होकर नाचते कि कुछ देर बाद तो बाजेवाले भी सिर्फ एक उनकी ही फरमाइश के गीतों की धुन बजाते और लक्खू अंकल दम लगाकर नाचते रहते।
अपने एक चाचा की बारात के दौरान मैं भी लक्खू अंकल के ऐसे ही जोश भरे डांस का गवाह बना था। कुछ इस क़दर नाचे थे अंकल की उन्हें न तो अपनी खुलती हुई बेल्ट का होश रह गया था न पीछे से निपकती पतलून का.. आज के लो वेस्ट फैशन से कई बरस पहले अंकल आने वाले दौर की झलक दिखा चुके थें। उस रोज़ उनके डांस की रफ़्तार देखकर तो जवान लड़के हैरान थें वहीँ हम जैसे बच्चे उनकी सरकती पैंट को देख अपने दांत निकालकर हंसने लगे। उन दिनों जब भी दूरदर्शन पर न्यूज़ आती तो लक्खूभाई पाठक धोखाघड़ी केस की अपडेट ज़रूर होती थी। उस केस से जुडी खबरें हमारे कानों में भी पड़ी और फिर क्या था "लक्खूभाई पाठक" ये नाम ज़ुबान पर कुछ ऐसा रटा कि जहाँ कहीं भी हमें मोहल्ले वाले लक्खू अंकल दिखाई दे जाते हम सब लड़के एक साथ चिल्लाने लगते "वो देखो लक्खूभाई जा रिया है... वो देखो पाठक जा रिया।" हम लोगों को उन्हें चिढ़ाने की आदत लग गई थी वो भी इस क़दर कि हम सब लड़के ख़ेल के मैदान में होते और दूर कहीं से भी लक्खू अंकल आते-जाते दिखाई पड़ते तो हम मैदान से ही चीख पड़ते "वो देख, धोखाधड़ी जा रिया है... वो देख धोखाधड़ी आ रिया है.. ओये धोखाधड़ी.." जी हां, पहले लक्खूभाई.. फिर पाठक और फिर उससे भी छोटा करते हुए हमने अंकल का नाम धोखाधड़ी ही रख दिया। उसे बोलने में आसानी थी और बोलकर हंसना तो और भी आसान हो गया था। ज़ाहिर तौर पर ये सरासर बदतमीज़ी थी और इसे मासूम बचपना तो नहीं कहा जा सकता मगर बड़ी बात ये थी कि अपने नाम के साथ इस तरह खिलवाड़ करने वाले हम बच्चों को हँसता देखकर लक्खू अंकल भी दिल से मुस्कुराते और ख़ूब खिलखिलाते।
जंगलों के किनारे पनपा हमारा बचपन भी कुछ जंगली था लेकिन जिन लोगों की आँखों के आगे हम बड़े हुए वो लोग बड़े दिलवाले थें और बड़े हिम्मतवाले भी😂 सीएमपीडीआई के साथ अपनी नौकरी ख़त्म कर अंकल रिटायर हुए और फिर अपने गांव जाकर बस गए। लक्खू अंकल की तरह ही बहुत से लोग थे जिन्हें सुबह से लेकर शाम तक देखने की आदत थीं हमारी आँखों को लेकिन वक़्त के साथ-साथ ऐसे लोग दूर होते गए। हम जानते हैं कि ज़िन्दगी में अब दोबारा कभी वैसे लोग और वैसा दौर नहीं लौटने वाला.. लेकिन क़स्बाई परवरिश का असली मज़ा यही है कि यादों में ही सही मगर हम अपनी पसंद के किरदारों को बार-बार रिवर्स-फॉरवर्ड करके देख सकते हैं। (“ये नाम नहीं, पहचान है” इस संस्मरण की सीरिज में कुछ अजीब-ओ-ग़रीब नामों पर बातें करेंगे। आपको भी कुछ नाम याद आएं तो ज़रूर शेयर करें… शुक्रिया)

Comments

Post a Comment

Popular posts from this blog

हिंदी मीडियम - पार्ट 1 (कापसे सर और उनका डर)

हिंदी मीडियम - पार्ट 2 (फाल्के सर और वो थप्पड़)

ये नाम नहीं, पहचान है - पार्ट 4 (झक्की आया...)